Breaking News
Loading...

विस्थापित प्रभावित संघर्ष मोर्चा के तत्वाधान में विस्थापीतों की बैठक सम्पन्न

AAZAAD BULLETIN (पतरातु/रामगढ़) : कटिया सरना (काली मंदिर) परिसर में पीवीयूएनल के विस्थापित प्रभावित महिला - पुरुषों की बैठक रविवार को विस्थापित प्रभावित संघर्ष मोर्चा के तत्वाधान में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता आदित्य नारायण प्रसाद और संचालन अलीम अंसारी व  किशोर कुमार महतो ने संयुक्त रूप से किया। आज के बैठक में सर्वप्रथम  द्रौपदी मुर्मू को  महामहिम राष्ट्रपति बनने पर बधाई दिया गया और इस खुशी के अवसर में मिठाई बांटी गई।

बैठक में विचार विमर्श करते हुए भारी आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा गया कि बारंबार आवाज उठाने के बावजूद भेल और भेल के एजेंसीयों के द्वारा विस्थापित प्रभावितों की उपेक्षा करना निरंतर जारी है और बाहर के लोगों को लगातार रखा जा रहा है। पीवीयूएनल  तथा भेल प्रबंधन के साथ कई बार बात करने के बाद भी भेल की एजेंसियों का मनमानी पर अंकुश नहीं लगा है। इसलिए विचारोंपरांत निर्णय लिया गया है कि अब भेल की एजेंसियों की मनमानी रवैया को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, अब मोर्चा वैसे एजेंसियों के खिलाफ सीधी कार्रवाई करेगी और एजेंसियों के प्रबंधन का घेराव करते हुए बाहर के लोगों को वापस भेजने की कार्रवाई की जाएगी। 

इसके तहत सर्वप्रथम विप्रो कंपनी पर कार्यवाही किया जायेगा,और इसके नकारात्मक रवैया का विरोध करने का निर्णय लिया गया है। 27.7.2022 से विप्रो कंपनी के प्रबंधन का घेराव करने और उस कंपनी का काम पूरी तरह से ठप करते हुए बाहर से लाए गए लोगों को खदेड़ने का घोषणा किया गया है और बाकी अन्य एजेंसी को भी चिन्हित किया जाएगा। झारखंड सरकार द्वारा जारी सर्कुलर के अनुसार 75% नियुक्ति में विस्थापित प्रभावितों को रखा गया है अथवा नहीं और न्यूनतम मजदूरी एवं 8 घंटे के बजाय 12 घंटा काम करवा कर ओटी का भुगतान नहीं कर शोषण किया जा रहा है। उस एजेंसी के खिलाफ भी सीधी करवाई किया जाएगा। 

आज के इस बैठक में मुख्य रुप से  कुमेल उरांव, अब्दुल क्यूम अंसारी, प्रियनाथ मुखर्जी, मन्नू मुंडा,  हरि सिंह, रवि कुमार, छोटू करमाली, मंटू कुमार, अशोक उरांव, तुलसी साव, नंदकिशोर महतो, रीता देवी,  प्रेम मुंडा,  सुंदरी देवी, ममता देवी, बसंती देवी,  नीतू देवी, किरण बाला देवी, बाबूलाल महतो, अमित कुमार, राजेश कुमार महतो, प्रकाश कुमार, मुन्ना गोप, रजलाल करमाली, आदि उपस्थित थे।

रिपोर्ट : धीरज (पतरातु)

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ